जानिए वो तीन मांगे जिनके लिए कांग्रेस कर रही है संसद सत्र का बहिस्कार

कृषि विधेयकों को भले ही सरकार पास कराने में कामयाब रही हो, मगर घमासान अब भी थमता नहीं दिख रहा है। राज्यसभा में विपक्ष के 8 सासंदों के निलंबन और कृषि बिलों से जुड़े प्रावधानों को लेकर राज्यसभा में मंगलवार को भी गहमागहमी देखने को मिली। कांग्रेस समेत पूरे विपक्ष ने राज्यसभा के सत्र का बहिष्कार किया है। कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि उनकी तीन मांगें जब तक सरकार नहीं मान लेती, तब तक संसद सत्र का उनकी पार्टी बहिष्कार करती रहेगी।

 

गुलाम नबी आजाद ने कहा, ‘हम संसद सत्र का बहिष्कार करेंगे जब तक कि सरकार हमारी तीन मांगों को स्वीकार नहीं करती है।

क्या हैं वे तीन मांगें :

पहली- सरकार दूसरा विधेयक लेकर आए जिसके तहत कोई भी निजी कंपनी एमएसपी से नीचे खरीद न कर सके

दूसरी- एमएसपी को स्वामीनाथन आयोग द्वारा अनुशंसित फार्मूले के तहत तय किया जाना चाहिए

तीसरी- एफसीआई जैसी सरकारी एजेंसियां एमएसपी से नीचे फसल नहीं खरीदेंगी।

 

गुलाम नबी आजाद ने जोर देकर कहा कि जब तक आठ सदस्यों का उच्च सदन से निलंबन वापस नहीं लिया जाता तब तक कांग्रेस राज्यसभा की कार्यवाही का बहिष्कार करेगी। उन्होंने कहा कि पिछले दो दिन में जो कुछ भी हुआ, उससे कोई खुश नहीं है। जनता चाहती है कि उनके नेताओं को सुना जाए। उनके विचारों को केवल 2-3 मिनट में नहीं निपटाया जा सकता। सांसद कम समय के कारण अपनी बात नहीं रखने के कारण नाराज रहते हैं। उन्होंने कहा कि विपक्ष के आठ सासंदों का निलंबन खत्म किया जाना चाहिए !

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.