बड़ी Update : जानलेवा हमला हुआ ज्योतिरादित्य सिंधिया पर, शिवराज ने कहा-

भाजपा में शामिल हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने विरोध शुरू कर दिया है। शुक्रवार को यहां उनके काफिले को रोकने का प्रयास हुआ और काले झंडे दिखाए गए। इससे नाराज भाजपा कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार देर रात भोपाल के श्यामला हिल्स थाने का घेराव किया। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इसकी निंदा की है।

बड़ी ख़बर – वीरेंद्र सहवाग की पत्नी आरती सहवाग ने दर्ज कराई FIR, जानिए क्या है मामला….

जानलेवा हमला करने का प्रयास
देर रात शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था पूरी तरह से समाप्त हो चुकी है और अराजकता का माहौल है। ज्योतिरादित्य सिंधिया पर जानलेवा हमला करने का प्रयास किया गया। उनकी गाड़ी को रोकने की कोशिश की गई, उन पर पत्थर बरसाए गए।

चौहान ने बताया कि बमुश्किल ड्राइवर ने वहां से अपनी गाड़ी निकाली। उन्होंने बताया कि भाजपा कार्यकर्ता सिंधिया पर हुए हमले को लेकर एफआइआर दर्ज कराने गए हैं। वहीं, भाजपा जिलाध्यक्ष विकास वीरानी ने बताया कि सिंधिया पर हमला किया गया और गाडि़यों में भी तोड़फोड़ की गई।

मैं स्तब्ध हूं कि प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह से समाप्त हो चुकी है। प्रदेश में अराजकता का माहौल है। आम आदमी की बात छोड़िए पूर्व केंद्रीय मंत्री, भाजपा के राज्यसभा उम्मीदवार, श्रीमान ज्योतिरादित्य सिंधिया के ऊपर जानलेवा हमला करने का प्रयास किया गया। #MP_मांगे_जवाबpic.twitter.com/u6RLwcEbjS
— Shivraj Singh Chouhan (@ChouhanShivraj) March 13, 2020

काले झंडे दिखाए
बताते हैं कि कमला पार्क से गुजर रहे सिंधिया के काफिले के सामने आकर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी कर काले झंडे दिखाए। पुलिस को प्रदर्शनकारियों को पीछे हटाने में खासी मशक्कत करनी पड़ी। पुलिस के सुरक्षा घेरे में सिंधिया का काफिला निकाला गया। बताते हैं कि विरोध करने वाले कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद के समर्थक थे। ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए हैं। उनके समर्थन में 22 विधायकों ने इस्‍तीफा दे दिया है। इसके बाद कमलनाथ सरकार पर बहुमत का संकट आ गया है।

जांच की मांग
इस दौरान शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि यदि सूबे में ऐसा कुछ ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ हो सकता है तो इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि हालात किस हद तक खराब हैं. तो यह कहना सही होगा कि सरकार ने अपना बहुमत इन्हीं सब कारणों के चलते खोया है. इसके साथ ही सिंधिया को दिखाए गए काले झंडों और उनके काफिले पर हुए पथराव को लेकर शिवराज सिंह चौहान ने जांच की मांग की है.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.