कंगना का सुप्रीम कोर्ट से सवाल- क्या ये मध्ययुग है जहां महिलाओं को जला दिया जाता है?

वीडियो में कंगना रनौत ने देश की अदालत के सामने भी गंभीर सवाल उठा दिया है. उनके मुताबिक उन्हें इस देश में अपने विचार खुलकर व्यक्त नहीं करने दिए जा रहे हैं.

एक्ट्रेस कंगना रनौत के लिए शुक्रवार का दिन काफी परेशानियों वाला रहा. बांद्रा पुलिस स्टेशन में पेशी देने के बाद एक्ट्रेस ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया. वीडियो के जरिए एक्ट्रेस ने सुप्रीम कोर्ट से भी कई सवाल पूछेे. कंगना ने इस बात पर नाराजगी व्यक्त की है कि उन्हें अपने विचार रखने का भी मौका नहीं मिल रहा है.

कंगना रनौत का फूटा गुस्सा

वायरल वीडियो में एक्ट्रेस बता रही हैं कि उन पर कई सारे केस कर दिए गए हैं. उनकी बहन रंगोली पर भी लगातार  निशाना साधा जा रहा है. वे कहती हैं- जब से मैंने देश के हित में बात की है, मेरा शोषण किया जा रहा है, गैरकानूनी तरीके से मेरा घर तोड़ दिया गया, हंसने पर भी मेरे खिलाफ केस हुआ है. वहीं पेशी देने वाली बात पर भी कंगना बिफरी नजर आईं.  उनकी नजरों में उन्हें पुलिस स्टेशन में हाजिरी देने के लिए कहा जा रहा है लेकिन ये नहीं बताया जा रहा कि कहा हाजिरी देनी है, कैसे देनी है.

सुप्रीम कोर्ट से कंगना का सवाल 

वीडियो में कंगना रनौत ने देश की अदालत के सामने भी गंभीर सवाल उठा दिया है. उनके मुताबिक उन्हें इस देश में अपने विचार खुलकर व्यक्त नहीं करने दिए जा रहे हैं. इस बारे में वे कहती हैं- मैं सुप्रीम कोर्ट से पूछना चाहती हूं, क्या ये मध्ययुग है जहां महिलाओं को जला दिया जाता है, जहां वो कुछ बोल भी नहीं सकती, इस तरह के अत्याचार सारी दुनिया के सामने हो रहे हैं. एक्ट्रेस ने वीडियो के अंत में राष्ट्रहिट में आवाज बुलंद करने वाले लोगों से अपील की है कि वे सभी साथ आए हैं और इसका विरोध करें. उन्होंने देश की जनता को कहा है कि वे उनके लिए अब स्टैंड ले.

क्या है पूरा मामला?

मालूम हो कि ये सारा मामला कास्टिंग डायरेक्टर साहिल सईद की एक शिकायत से जुड़ा हुआ है. उस शिकायत में कहा गया है कि कंगना ने बॉलीवुड के अंदर नफरत का माहौल पैदा किया है. उनके ट्वीट और वीडियो ने भी लोगों के बीच दूरियां पैदा की हैं.  उसी मामले में कंगना को शुक्रवार को बांद्रा पुलिस स्टेशन में भी पेश होना पड़ा.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *