पत्नी को ED का समन मिलने से बौखलाए Sanjay Raut, भारत-चीन विवाद को लेकर Modi सरकार पर बोला हमला

शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने कहा कि हम चीनी सैनिकों को पीछे धकेलने में अक्षम रहे, लेकिन हमने चीनी निवेश को पीछे धकेल दिया. निवेश बंद करने के बजाए, हमें चीनी सैनिकों को लद्दाख से पीछे धकेलना चाहिए था.

मुंबई: शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) PMC बैंक घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) की कार्रवाई से बुरी तरह बौखला गए हैं. ED द्वारा उनकी पत्नी को समन भेजे जाने के बाद से राउत केंद्र सरकार पर निशाना साध रहे हैं. राउत ने चीन (China) के मुद्दे को लेकर मोदी सरकार (Modi Government) पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने शायद चीनी निवेश को पीछे धकेला होगा, लेकिन वह भारत में घुसपैठ करने वाले चीनी सैनिकों को पीछे धकेल पाने में सक्षम नहीं रही है. 

इस सच्चाई से वाकिफ नहीं हैं Raut?

शिवसेना (Shiv Sena) के मुखपत्र ‘सामना’ में संजय राउत (Sanjay Raut) ने लिखा है, ‘हम चीनी सैनिकों को पीछे धकेलने में अक्षम रहे, लेकिन हमने चीनी निवेश को पीछे धकेल दिया. निवेश बंद करने के बजाए, हमें चीनी सैनिकों को लद्दाख से पीछे धकेलना चाहिए था’. राउत का ये बयान भारत-चीन विवाद को लेकर उनकी नासमझी दर्शाने के लिए काफी है. सब जानते हैं कि भारतीय सेना के पराक्रम के चलते चीनी सेना खौफ में है और सरकार द्वारा लगातार की जा रही डिजिटल स्ट्राइक से चीन की कमर टूट चुकी है. 

BJP ने बताया हास्यास्पद
वहीं, भाजपा ने शिवसेना नेता के इस दावे को हास्यास्पद करार दिया है. पार्टी नेता केशव उपाध्ये ने कहा कि मोदी सरकार को निशाना बनाने का उनका यह एकसूत्री एजेंडा है. उपाध्ये ने कहा कि संजय राउत ने क्या लिखा है, वो उन्होंने फिलहाल नहीं पढ़ा, लेकिन लोग इस तरह के दावे को गंभीरता से नहीं लेते. वैसे ये कोई पहला मौका नहीं है, इससे पहले भी कई बार राउत बेमतलब की बयानबाजी कर चुके हैं. अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मामले में भी उन्होंने केंद्र सरकार पर निशाना साधा था.

Farm bills पर भी साधा निशाना

संजय राउत ने कृषि कानूनों को लेकर भी टिप्पणी की. उन्होंने कहा, ‘महामारी के चलते लोगों की जान चली गई, लेकिन संसद ने अपनी आत्मा गंवा दी. तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसान प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन सरकार उनकी भावनाओं को नजरअंदाज कर रही है. इसके बजाए वो अयोध्या में राम मंदिर निर्माण जैसे भावनात्मक मुद्दे उठा रही है. उन्होंने आगे कहा कि किसान आंदोलन को लेकर अब तक जिस तरह का रुख सरकार ने दर्शाया है, उससे साफ हो जाता है कि वो इस मुद्दे पर कितनी संवेदनशील है. 

यह है पूरा मामला

संजय राउत की बौखलाहट ED द्वारा उनकी पत्नी को भेजे गए समन से जुड़ी हुई है. प्रवर्तन निदेशालय ने वर्षा राउत को समन भेजकर 29 दिसंबर को हाजिर होने को कहा है. ED ने पिछले साल अक्टूबर में पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (PMC) बैंक में कथित ऋण धोखाधड़ी (Loan Fraud) की जांच के लिए हाउसिंग डेवलपमेंट इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एचडीआईएल), उसके प्रमोटर राकेश कुमार वधावन और उनके बेटे सारंग वधावन, उसके पूर्व अध्यक्ष वी. सिंह और पूर्व प्रबंध निदेशक जॉय थॉमस के खिलाफ एक मामला दर्ज किया था. इसी मामले में संजय राउत की पत्नी वर्ष राउत भी आरोपी हैं.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *