आज से पूरे देश में Vaccine का Dry Run शुरू, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- ‘देश के पास वैक्सीनेशन का अनुभव’

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) ने बताया कि देश में ड्राई रन को लेकर स्वास्थ्यकर्मियों को पूरा प्रशिक्षण दिया जा चुका है. हमने एक विशेष टीम का भी गठन किया है, जो पूरी प्रक्रिया पर बारीकी से नजर बनाए रखेगी. इस ड्राई रन में वैक्सीन नहीं दी जाएगी, सिर्फ लोगों का डेटा लिया जाएगा.  

नई दिल्ली: कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) के आपातकालीन इस्तेमाल को मंजूरी मिलने के बाद आज वैक्सीन का ड्राई रन (Dry Run) शुरू किया जाएगा. देशभर में होने वाले इस ड्राई रन के आधार पर ही वास्तविक टीकाकरण अभियान को अंजाम दिया जाएगा. ड्राई रन के दौरान कोई वैक्‍सीन इस्‍तेमाल नहीं होगी. इसके जरिए केवल यह टेस्‍ट किया जाएगा कि सरकार ने वैक्सीनेशन का जो प्‍लान बनाया है, वह कितना कारगर है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) आज सुबह साढ़े 9 बजे खुद दिल्ली के जीटीबी अस्पताल में ड्राई रन का जायजा लेने पहुंचे. उन्होंने कहा कि देश के पास वैक्सीनेशन का अनुभव है. वैक्सीनेशन में गाइडलाइन के पालन के सख्त नियम हैं. वैक्सीन पर ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया जल्द फैसला लेगा. वैक्सीन पर अफवाहों पर ध्यान ना दें.

चार राज्यों में मिले हैं अच्छे परिणाम

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) ने बताया कि देश में ड्राई रन को लेकर स्वास्थ्यकर्मियों को पूरा प्रशिक्षण दिया जा चुका है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक विशेष टीम का भी गठन किया है, जो पूरी प्रक्रिया पर बारीकी से नजर बनाए रखेगी. अब तक पंजाब, असम, गुजरात और आंध्र प्रदेश में ऐसा ड्राई रन किया गया था. इन चारों राज्यों में ड्राई रन को लेकर अच्छे परिणाम सामने आए थे. जिसे ध्यान में रखते हुए अब सरकार पूरे देश में ड्राई रन शुरू करने जा रही है. 

केवल Data लिया जाएगा

सभी राज्यों में होने वाला ड्राई रन 20 दिसंबर 2020 को स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी ऑपरेशनल गाइडलाइन के अनुसार होगा. ड्राई रन उसी तरह होगा, जिस तरह वैक्सीन आने पर टीकाकारण के बारे में प्लान किया गया है या जैसे वैक्सीन लगाई जाएगी. इस ड्राई रन में वैक्सीन नहीं दी जाएगी, सिर्फ लोगों का डेटा लिया जाएगा और उसे CoWin ऐप पर अपलोड किया जाएगा.

सिर्फ स्वास्थ्यकर्मी होंगे शामिल

दिल्ली की तरह देश के अलग-अलग शहरों में भी वैक्सीन सेंटर हैं, जहां आज से ड्राई रन शुरू किया जाएगा. ड्राई रन में केवल स्वास्थ्यकर्मी ही शामिल हो सकेंगे क्योंकि सरकार की ओर से तय नियम के मुताबिक वैक्सीन सबसे पहले Health Care Staff और Frontline Workers को लगाई जाएगी. इसके बाद 50 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोगों की बारी आएगी और अंत में 50 वर्ष से कम उम्र के उन लोगों को वैक्सीन लगेगी, जिन्हें गंभीर बीमारियां हैं.

ड्राई रन की जरूरत क्यों? 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन  के मुताबिक, वैक्सीनेशन के ड्राई रन के जरिए देश वैक्सीन लगाने की तैयारियों को परख लेगा यानी वैक्सीन को मंजूरी मिलने के बाद देश में कोरोना के खिलाफ वैक्सीनेशन का कार्यक्रम बहुत तेजी से चलाया जा सकेगा.  

Delhi के इन इलाकों में होगा ड्राई रन

राष्ट्रीय राजधानी में ड्राई रन के लिए तीन जगहों का चयन किया गया है. दिल्ली के शाहदरा के गुरु तेग बहादुर अस्पताल, दरियागंज का शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और द्वारका का वेंकटेश्वर अस्पताल में आज ड्राई रन शुरू हो गया है. इसी तरह उत्तर प्रदेश में ड्राई रन के लिए राज्य सरकार ने लखनऊ में सहारा अस्पताल, आरएमएल अस्पताल, केजीएमयू और एसजीपीजीआई सहित 6 केंद्रों का चयन किया है. इन केंद्रों पर सुबह 9 बजे से लेकर 4 बजे तक टीकाकरण की तैयारियों को परखा जाएगा.

अब DCGI के अप्रूवल का इंतजार

इससे पहले शुक्रवार को सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी के साथ हुई बैठक में भारत ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) द्वारा निर्मित कोविशील्ड (Covishield) कोरोना वैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दे दी. सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी ने सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन को रिकमेंड किया है.

हालांकि अंतिम निर्णय डीसीजीआई (ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया) द्वारा ही लिया जाएगा. इसका मतलब है कि डीजीसीआई (DCGI) का अप्रूवल मिलते ही अगले 6-7 दिनों में वैक्सीनशन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. बता दें कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, ऑक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनेका ने मिलकर कोविशील्ड वैक्सीन तैयार की है. ब्रिटेन और अर्जेंटिना के बाद भारत ऐसा तीसरा ऐसा देश है जहां ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन को अनुमति देने की सिफारिश की गई है.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *